10 वर्षों के बाद सीरिया और यूएई के बीच पहला समझौता

संयुक्त अरब और सीरिया के बीच बिजलीघर को लेकर एक द्विपक्षीय समझौता हुआ है।
सीरिया के ऊर्जा मंत्रालय ने यूएई की कंपनी के साथ सोलर फोटोवोल्टिक बिजलीघर बनाने के लिए एक समझौता किया है।

इस समझौते के हिसाब से सीरिया की राजधानी दमिश्क़ के निकटवर्ती क्षेत्र वादी अर्रबी में 300 मेगावाट का फोटोवोल्टिक बिजलीघर बनाया जाएगा। 
समझौते के हिसाब से इस बिजलीघर में प्रतिवर्ष लगभग 500 मिलयन किलोवाट बिजली पैदा होगी।  यह बिजलीघर सालाना लगभग 125000 टन ईंधन की आपूर्ति करेगा।

यह समझौता यूएई के विदेशमंत्री अब्दुल्लाह बिन ज़ाएद आले नहयान की दमिश्क़ यात्रा के दौरान किया गया।  यूएई के किसी विदेशमंत्री की 10 वर्षों के बाद यह सीरिया की यात्रा थी जिसकी चर्चा अरब मीडिया में बहुत हो रही है।

इस बारे में हिज़बुल्लाह के माहसचिव कहते हैं कि संयुक्त अरब इमारात के विदेशमंत्री का सीरिया दौरा वास्तव में सीरियाई राष्ट्रपति बश्शार असद की सफलता और सीरिया विरोधी अरब शासकों की नाकामी तथा पराजय का प्रतीक है।

सैयद हसन नसरुल्लाह ने कहा कि अरब शासकों ने सीरिया के राष्ट्रपति बश्शार असद की सरकार को गिराने के लिए शक्ति और आतंकवाद का भरपूर प्रयोग किया।  इस काम के लिए अरब शासकों ने अरबों डालर ख़र्च किए,

सीरिया को अरब संघ से भी निकाल दिया गया लेकिन आज वही अरब शासक, सीरिया को अरब संघ में वापस लाने के प्रयास कर रहे हैं।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: